News ToDay

चीन से तनाव के बीच पूर्वी लद्दाख में भारत ने LAC पर तैनात की K9-वज्र तोपें, 50 KM तक है सटीक निशाना

K9-Vajra howitzer regiment inducted in Eastern Ladakh: Army chief:  भारत ने चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए पूर्वी लद

K9-Vajra howitzer regiment inducted in Eastern Ladakh: Army chief:  भारत ने चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए पूर्वी लद्दाख में पहली बार K9-वज्र तोपें तैनात की है. इंडियन आर्मी ने K9-वज्र की ब्रिगेड पूर्वी लद्दाख में तैनात की है. यह K-9-वज्र तोप एक सेल्फ-प्रोपेल्ड हॉवित्जर तोप है, जो 50 किमीटर दूर तक लक्ष्य पर निशाना साधने में सक्षम है. K9 वज्र दुनिया की सबसे आधुनिक तोप है जो चीन, पाक चीन से निपटने में सक्षम है. आर्मी को ऐसी 100 तोपें उपलब्‍ध कराई गईं थीं. इन तोपों को एलएसी पर 12000 से 16000 फीट की ऊंचाई तक तैनात किया गया है. आर्मी चीफ एमएम नरवणे ने शनिवार को पूर्वी लद्दाख में इन तोपों की तैनाती की जानकारी दी है.Also Read – खादी से बना दुनिया का सबसे बड़ा राष्ट्रीय ध्वज लेह में फहराया गया, 37,500 वर्ग फीट क्षेत्र को कवर करता है, देखें इसकी खासियत

Also Read – पूर्वी लद्दाख में गतिरोध जारी, सेना प्रमुख बोले- अक्टूबर महीने में निपटा लेंगे विवाद, हर चुनौती से निपटने को हैं तैयार

50 टन वजनी इस तोप की मारक क्षमता 43 किमी तक है, लेकिन यह 50 किलोमीटर तक सटीक निशाना साधने में सक्षम है. बता दें भारत पूर्वी लद्दाख और करीब 3,500 किलोमीटर लंबी एलएसी के साथ लगे अन्य क्षेत्रों में सुरंगों, पुलों की सड़कों तथा अन्य महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे के विकास में तेजी ला रहा है. वहीं, चीन पूर्वी लद्दाख में एलएसी के पास अपने वायु सेना ठिकानों तथा वायु रक्षा इकाइयों को भी बढ़ा रहा है. बीते एक साल से अधिक समय से चीन से एलएसी पर तनाव बरकरार है. एलएसी पर चीन सैन्‍य तैयारियां करते हुए नजर आ रहा है, वहीं भारतीय सेना ने भी अपनी तैयारियों को अंजाम दे रही है. Also Read – Indian Army Recruitment 2021: भारतीय सेना में बिना परीक्षा के ऑफिसर बनने का गोल्डन चांस, जल्द करें आवेदन, 85000 से अधिक मिलेगी सैलरी

आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे ने शुक्रवार को पूर्वी लद्दाख में कई अग्रिम इलाकों का दौरा किया और चीन के साथ लंबे समय से सैन्य गतिरोध की पृष्ठभूमि में भारत की अभियानगत तैयारियों की व्यापक समीक्षा की थी. अधिकारियों ने बताया कि नरवणे को 14वीं कोर के मुख्यालय में क्षेत्र की समग्र स्थिति के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई, जिसे ‘फायर एंड फ्यूरी कोर’ के रूप में जाना जाता है. इस कोर के पास लद्दाख में चीन के साथ लगी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) की रखवाली की जिम्मेदारी है.

बीते दिन जनरल नरवणे ने पूर्वी लद्दाख में कई अग्रिम क्षेत्रों का दौरा किया जहां उन्हें मौजूदा सुरक्षा स्थिति और अभियानगत तैयारियों के बारे में जानकारी दी गई. उन्होंने सैनिकों के साथ भी बातचीत की और उनकी दृढ़ता और मनोबल ऊंचा बनाए के लिए उनकी सराहना की.

भारत ने बृहस्पतिवार को सीमा विवाद के लिए दोषी ठहराने के प्रयास पर चीन पर निशाना साधा और कहा कि क्षेत्र में एलएसी पर यथास्थिति को बदलने के लिए चीनी सेना द्वारा भड़काऊ व्यवहार और एकतरफा प्रयासों ने क्षेत्र में अमन-चैन की स्थिति को गंभीर नुकसान पहुंचाया.

K9 वज्रटी 155 मिमी 52 कैलिबर की सेल्‍फ प्रोपेल्‍ड हॉवित्जर तोप को मेक इन इंडिया के तहत सूरत एलएंडटी प्लांट एलएंडटी प्‍लांट में बनाया गया था. इसी साल फरवरी में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सेना को 100 वीं तोप सौंपी थी. एक साल पहले सेना में 51वीं के9 वज्र हॉवित्जर तोप को शामिल किया गया था. इस तोप का प्रदर्शन Republic Day पर हुआ था. मेक इन इंडिया Make In India के तहत 2018 में एलएंडटी को ही ऑर्डर दिया गया था.

.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker