News ToDay

गरीब किरायेदारों का किराया नहीं दे पाएगी केजरीवाल सरकार, दिल्ली हाईकोर्ट ने लगाई रोक

नई दिल्ली: अरविंद केजरीवाल ने घोषणा की थी कि दिल्ली में जो भी गरीब किराएदार ह

नई दिल्ली: अरविंद केजरीवाल ने घोषणा की थी कि दिल्ली में जो भी गरीब किराएदार हैं और किराये के घर या कमरे का किराया देने में असमर्थ हैं, दिल्ली सरकार उनका किराया भरेगी. कोरोना के चलते लिए गए इस फैसले पर दिल्ली हाईकोर्ट ने रोक लगा दी है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की घोषणा पर अमल के लिए नीति बनाने के वास्ते आम आदमी पार्टी (आप) सरकार को दिये गये निर्देश पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दी.Also Read – Dekho Hamari Delhi: दिल्ली में कहां-कहां हैं घूमने की जगह? शहर के पर्यटन स्थलों की जानकारी देगा केजरीवाल सरकार का ऐप

मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की पीठ ने एकल न्यायाधीश के आदेश के खिलाफ दिल्ली सरकार की अपील पर नोटिस जारी किया. पीठ ने मामले की अगली सुनवाई की तारीख 29 नवंबर तय की. याचिकाकर्ताओं – दैनिक वेतन भोगी और श्रमिकों को नोटिस जारी किया गया था – जिनकी याचिका पर एकल न्यायाधीश ने आदेश पारित किया था, जिसे दिल्ली सरकार ने चुनौती दी है. Also Read – Delhi Corona Update: दिल्ली में लगातार 10वें दिन कोरोना से नहीं गई किसी की जान, बीते 24 घंटे में 366 नए मामले

एकल पीठ ने कहा था कि अगर स्थगन का आदेश पारित नहीं किया गया तो अपीलकर्ता को अपूरणीय क्षति होगी. इस पीठ ने यह भी कहा था कि नागरिकों से किया गया मुख्यमंत्री का वादा लागू करने योग्य है. पीठ ने कहा, ‘‘प्रथमदृष्टया मामला अपीलकर्ता के पक्ष में है. हम सुनवाई की अगली तारीख तक एकल न्यायाधीश के आदेश के संचालन, कार्यान्वयन और निष्पादन पर रोक लगाते हैं.’’ Also Read – Delhi Corona Update: दिल्ली में लगातार 7वें दिन कोरोना से नहीं गई किसी की जान, एक्टिव केस फिर हुए 400 से कम

दिल्ली सरकार की ओर से पेश वरिष्ठ वकील मनीष वशिष्ठ ने दावा किया कि महामारी के प्रकोप की पृष्ठभूमि में, मुख्यमंत्री द्वारा बड़े पैमाने पर जनता से ‘‘अपील’’ की गई थी कि वे किराएदारों को किराए का भुगतान करने के लिए मजबूर नहीं करें. उन्होंने कहा, ‘‘मेरे हिसाब से तो यह कोई वादा ही नहीं था. हमने सिर्फ इतना कहा कि कृपया प्रधानमंत्री के बयान का पालन करें. हमने मकान मालिकों से कहा (कि) किराएदारों को किराया देने के लिए मजबूर न करें..और अगर कुछ हद तक, गरीब लोग भुगतान नहीं कर पाते हैं, तो सरकार इस पर गौर करेगी.’’

पीठ ने उनकी बात पर गौर करते हुए कहा, ‘‘तो आपका भुगतान करने का कोई इरादा नहीं है? यहां तक कि पांच फीसदी भुगतान भी.” वरिष्ठ वकील ने इस पर जवाब दिया कि ‘‘केवल तभी जब स्थिति की मांग हो.’’ याचिकाकर्ताओं दिहाड़ी मजदूरों और श्रमिकों का प्रतिनिधित्व करने वाले वकील गौरव जैन ने किसी भी तरह के स्थगन का विरोध किया. उन्होंने कहा कि उनके मुवक्किलों के पास किराए की राशि का भुगतान करने का कोई साधन नहीं है.

गौरतलब है कि इस साल 22 जुलाई को, न्यायमूर्ति प्रतिभा एम सिंह ने फैसला सुनाया था कि नागरिकों के लिए एक मुख्यमंत्री का वादा लागू करने योग्य था और आप सरकार को छह सप्ताह के भीतर अरविंद केजरीवाल की इस घोषणा पर फैसला करने का निर्देश दिया था कि सरकार उन गरीब किरायेदारों की ओर से किराए का भुगतान करेगी, जो कोविड-19 के कारण ऐसा करने में असमर्थ हैं.

.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker